एक मासूम एथलीट जो रेस जीतते ही बेहोश हो जाती है


न्यूयॉर्क. एक स्कूली छात्रा इन दिनों इसलिए सुर्खियों में है, क्योंकि वह दौड़ खत्म होने के बाद बेहोश हो जाती है। छात्रा का नाम सैम पीटरमैन है। वह स्वीट होम हाईस्कूल में पढ़ती हैं। हाल ही में उन्होंने 1500 मीटर की स्टेट हाईस्कूल दौड़ में न केवल भाग लिया, बल्कि स्वर्ण पदक भी जीता। सैम ने स्टेट की छह रेसों को पूरा किया है। उनका सर्वश्रेष्ठ समय 4 मिनट 30 सेकंड रहा है। उन्होंने अपना पिछला रेकॉर्ड भी इसमें तोड़ा है जो 9 सेकंड ज्यादा था।

सैम को छा जाती है बेहोशी
स्कूल प्रवक्ता ने बताया कि रेस खत्म होने से 100 मीटर पहले ही सैम पर बेहोशी छाने लगती है, जिससे उनका संतुलन बिगड़ने लगता है। वह गिरने लगती हैं, लेकिन रेस पूरी करती जाती हैं। फिनिश लाइन पर उनके पिता डेल पीटरमैन खड़े रहते हैं, जो जानते हैं कि सेम के साथ यह क्या हो रहा है और आखिर में रेस पूरा करते ही सैम अपने पिता की बांहों में गिर जाती है।

ऐसे आती है होश में
सैम के पिता उसे पार्क में लिटाते हैं, उनकी टीम के कुछ लोग सैम के पैरों को उठाते हैं और उन्हें पानी पिलाते हैं। सैम को सांस लेने में दिक्कत होती है तो उनके पिता सब्र रखने के लिए कहते हैं। इसी बीच वह पूछती हैं कि क्या उसने रेस पूरी की? तो उनके पिता बताते हैं कि वह रेस जीत चुकी हैं और अब खुद अपना मेडल लेने जाएंगी।

और ..हो जाती हैं बेहोश
वे हृदयजनित बेहोशी की एक आम बीमारी से पीड़ित हैं, जिसमें दिमाग तक जाने वाले खून की रफ्तार कम होने लगती है। इस कारण वह होश खोने लगती है, लेकिन हर बार रेस खत्म होते ही उन्हें थामने के लिए उनके पिता मौजूद रहते हैं।

छह साल से है बीमारी
सैम को अपनी इस दुर्लभ बीमारी का पता 8वीं क्लास में चला, जब उन्होंने 3000 मीटर की रेस में भाग लिया था। पहली बार वह बेहोश हो गईं जब उठीं तो बेहद डरी हुई थीं। हाईस्कूल में भी उनके साथ ऐसा होता रहा तो उनके परिवार वाले उन्हें अस्पताल ले गए, जहां सैम को पूरे हफ्ते तक दौड़ने से रोक दिया गया।

35 दिन बाद मिली अनुमति
सैम को इलाज के लिए तीन डॉक्टरों की निगरानी में 35 दिन रखा गया। उनकी हर गतिविधि पर नजर रखी गई। आखिर में सैम को दौड़ने के लिए डॉक्टरों ने रजामंदी दे दी।

पिता का हमेशा सहारा
सैम फिर से भागने लगीं, लेकिन उनकी हर फिनिश लाइन से पहले उनके पिता उन्हें थामने के लिए खड़े होते। रेस खत्म होते वक्त तो सैम अपने पिता की बांहों में होती हैं, लेकिन जब वह मेडल लेकर पोडियम से उतरती हैं तो उनके पिता सैम की बांहों में होते हैं।

Del peterson with his daughter, sports news 

Share on Google Plus

About Bhopal Samachar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.