पंचायत ने विधवा को जिंदा क्यों जलवाया ?

पटना. बिहार के सुपौल जिले की एक पंचायत के आदेश पर एक 35 साल की विधवा को जिंदा जलाने का मामला सामने आया है। विधवा पर आरोप था कि उसके अपने चचेरे ससुर से रिश्ते थे। दोनों शादी करना चाहते थे। इस पर नाराज पंचायत ने कथित तौर पर एक इकरारनामे पर साइन करवाकर महिला को सौ से ज्यादा गांववालों के सामने जिंदा जलवा दिया। इकरारनामे में यह लिखा गया कि महिला के साथ होने वाली किसी घटना के लिए गांव का कोई शख्स जिम्मेदार नहीं होगा।

क्या है मामला 
वारदात सुपौल के पिपरा थाना क्षेत्र के ग्राम लालपुर में बुधवार को हुई। पीड़ित महिला का नाम अनीता बताया जा रहा है। विधवा अनीता के तीन बेटे हैं। गांव की एक महिला ने बताया कि बीते शनिवार को अनीता की सास ने उसे अपने चचेरे ससुर घनशी शर्मा के साथ आपत्तिजनक हालत में पकड़ा। घनशी की पत्नी की तीन साल पहले मौत हो चुकी है और उसकी भी तीन संतानें हैं। दोनों के पकड़े जाने के बाद पंचायत बैठी। दोनों शादी के लिए राजी थे, लेकिन पंचायत ने इसकी मंजूरी नहीं दी। बुधवार को दोबारा से पंचायत बैठी और महिला को कथित तौर पर जिंदा जला दिया गया।

क्या कहना है पुलिस का 
सुपौल के एसपी पंकज राज के मुताबिक, उन्हें घटना की जानकारी नहीं है। वहीं, इलाके के थानेदार चंदन कुमार ने बताया कि हत्या का केस दर्ज कराने के लिए कोई भी तैयार नहीं हुआ। इसलिए इसे खुदकुशी मानकर मामला दर्ज किया गया।

illicit affair with father-in-law , Bihar's Supaul Panchayat. case 
Tags

buttons=(Accept !) days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top