आठ दिवसीय आर्य युवक चरित्र निर्माण शिविर का भव्य समापन

नोएडा। आज केन्द्रीय आर्य युवक परिषद्, नई दिल्ली के तत्वावधान में गत 6 जून से ऐमिटी इन्टरनेशनल स्कूल, सैक्टर-44,नोएडा में चल रहे ‘‘आर्य युवक चरित्र निर्माण व व्यक्तित्व विकास शिविर’’ का भव्य समापन हो गया।

शिविर में 275 किशोर व युवकों ने प्रातः 4 बजे से रात्री 10 बजे तक अनुशासित दिनचर्या में रहकर नैतिक शिक्षा, योगासन, दण्ड-बैठक, लाठी, तलवार, जूडो-कराटे, बाक्सिंग, स्तूप, डम्बल, लेजियम, सन्ध्या-यज्ञ, भाशणकला, नेतृत्व कला, देश भक्ति की भावना, भारतीय संस्कृति की महानता पर शिक्षकों व विद्वानों से बौद्धिक व शारीरिक प्रशिक्षण प्राप्त किये।

समारोह के मुख्य अतिथि केन्द्रीय मन्त्री डा.महेष षर्मा ने कहा कि चरित्रवान युवा पीढ़ी में ही राश्ट्र का भविश्य सुरक्षित है,यह युवा ही देष की दिषा व दषा को बदलेंगे । महर्शि दयानन्द ने जो समाज निर्माण का स्वपन देखा था, वह इन प्रषिक्षित युवाओं को ही पूरा करना है । उन्होंने कहा कि आर्य समाज से राश्ट्र व समाज को बहुत अधिक आषायें है उन पर आर्य जनों को खरा उतरने की आवष्यकता है ।

समारोह अध्यक्ष डा.अषोक कुमार चैहान (संस्थापक अध्यक्ष,ऐमिटी षिक्षण संस्थान) ने कहा कि चरित्रवान आर्य युुवा ही देष व विष्व को बदल सकते हैं । देष के उत्थान व प्रगति में चरित्र निर्माण षिविरों का अपना विषेश महत्व है, इन युवकों ने ही देष को बदलने में व विष्व के अग्रणी देषों में भारत का स्थान बनाने में उल्लेखनीय भूमिका निभानी है । मैंने यहां आकर के बच्चों में देखा कि उनमें देष भक्ति, मानवता के प्रति प्रेम व इस समाज को एक अच्छा समाज बनाने की प्रेरणा काम कर रही है, इसके लिए मैं डा.अनिल आर्य व उनकी पूरी टीम को हार्दिक बधाई देता हॅंू।

केन्द्रीय आर्य युवक परिशद् के राश्ट्रीय अध्यक्ष डा.अनिल आर्य ने कहा कि चरित्रवान युवा ही राश्ट्र की अमूल्य सम्पति हैं,यह युवक समाज में जाकर राश्ट्रीय एकता व अखण्डता के लिए कार्य करेंगे, उन्होंने युवकों से जातिवाद व प्रान्तवाद से ऊपर उठकर समाज को जोड़ कर राश्ट्रीय स्तर पर सामाजिक समरसता के लिए कार्य करने का आह्वान किया ।

ऐमिटी स्कूलस की चेयरपरसन डा.अमिता चैहान ने कहा कि षिविर में प्रषिक्षित युवकों को अब समाज में व्यापत अन्धविष्वास, पाखण्ड व सामाजिक कुरीतियों को मिटा कर एक अच्छे समाज की संरचना का कार्य करना है । न्यायमूर्ति विनोद कुमार मिश्र(न्यायाधीष,इलाहाबाद हाई कोर्ट) ने कहा कि महर्शि दयानन्द समग्र क्राान्ति के अग्रदूत थे उनके स्वपनों के भारत का निर्माण युवा पीढ़ी को ही करना है, संस्कारवान युवा ही देष में आमूल चूल परिवर्तन ला सकते हैं उन्हीं के कन्धों पर देष का भविश्य टिका हुआ है ।

सार्वदेषिक सभा के प्रधान स्वामी आर्यवेष व कोशाध्यक्ष मायाप्रकाष त्यागी ने कहा कि महर्शि दयानन्द ने जो सामाजिक क्रान्ति का स्वपन देखा था वह इन युवकों को पूरा करना है । आर्य समाज के समाजोत्थान, देषोत्थान के कार्य को राश्ट्र सदैव स्मरण रखेगा ।
समारोह का षुभारम्भ समाजसेवी दर्षन अग्निहोत्री ने ओउ्म् घ्वज फहराकर किया व आचार्य महेन्द्र भाई ने यज्ञ करवाया। युवा गायक अंकित उपाध्याय व प्रवीन आर्य के मधुर भजन हुए । षिक्षक योगेन्द्र षास्त्री,दुर्गाप्रसाद,सौरभ गुप्ता के निर्देषन में युवको के भव्य व आकर्शक व्यायाम प्रदर्षन के कार्यक्रम की सभी ने मुक्त कंठ से सराहना की ।

इस अवसर पर विमला बाथम(विधायक),आनन्द चैहान,चै.लाजपतराय आर्य(करनाल),प्रभात षेखर,गायत्री मीना,राजीव परम,यषोवीर आर्य,रामकुमारसिंह,कै.अषोक गुलाटी,आचार्य गवेन्द्र षास्त्री प्रमुख रूप से उपस्थित थे । षिविर में सर्वप्रथम षिविरार्थी आलोक कुमार(यमुना नगर), सर्वद्वितीय अवनीष(गाजियाबाद), सर्वतृतीय मोनु(जीन्द) पुरस्कृत किये गये। भाशण में ओमप्रकाष(बिहार),अषोक भण्डारी(बागेष्वर),अभिमन्यृ(षाहदरा) विजेता रहे । समारोह में हजारों लोगों ने पधार कर आर्य युवा षक्ति का उत्साह वर्धन किया ।  

डा.अनिल आर्य
राष्ट्रीय अध्यक्ष
फोनः9810117464,9868002130,27653604

Tags

buttons=(Accept !) days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top