गैंगरेप के लिए पिता ने खुद आतंकियों को सौंप दी अपनी बेटी

आतंकी संगठन बोको हराम ने फिर से दुनिया को अपना बर्बर चेहरा दिखाया है।  आतंकियों ने बंधक बनाई गई सैकड़ों महिलाओं एवं लड़कियों को एक बार फिर अपनी हवस का शिकार बनाया है। आतंकियों ने कुछ महिलाओं के साथ तो कई बार रेप किया।

नाइजीरिया के अधिकारी और राहत कार्य में जुटे कार्यकर्ताओं के मुताबिक, बोको हराम ने ग्रामीण इलाकों में अपना प्रभाव जमाने और आतंकियों की नई जमात तैयार करने के उद्देश्य से इस बर्बर करतूत को अंजाम दिया है। न्यूयॉर्क टाइम्स के मुताबिक, पीड़ित महिलाओं ने बताया कि उन्हें कमरों में बंद कर आतंकी रेप करते थे। अक्सर आतंकी उन्हें गर्भवती करने के मकसद से ही उनके साथ जबरन संबंध बनाते थे।

25 वर्षीय पीड़िता ने अपना दर्द बयां करते हुए कहा, 'उन्होंने मेरी शादी करा दी। अब मैं चार माह की गर्भवती हूं।' पीड़िता के पिता खुद बोको हराम में शामिल हैं और उसने खुद अपने बेटी को आतंकियों के सामने परोस दिया। उसने बेटी पर आतंकियों के साथ संबंध बनाने के लिए दबाव डाला। पीड़िता ने कहा, 'वह जिन लड़कियों से शादी करना चाहते थे, उनमें से एक मुझे भी चुना गया। कोई भी विरोध जताता था, तो वह सीधे गोली मारने की धमकी देते थे।'

बोको हराम ने नाइजीरिया के पूर्वोत्तर इलाके के बड़े हिस्से पर कब्जा जमा लिया है। जहां आए दिन आतंकी लड़कियों और महिलाओं का अपहरण कर लेते हैं और उनसे जबरन शादी कर लेते हैं। हाल ही में आतंकियों के कब्जे से बच कर भागीं दर्जनों महिलाएं राजधानी मैदुगुरी के शरणार्थी कैंपों में जिंदगी गुजार रही हैं। इस कैंप में करीब 1500 लोग ठहरे हुए हैं, जिनमें 200 गर्भवती महिलाएं भी शामिल हैं।

मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के अनुसार इनमें से अधिकतर महिलाएं बोको हरम आतंकियों की हवस का शिकार हुई हैं। बोको हराम का सरगना अबू बकर शेखाउ ने पिछले दिनों महिलाओं को गुलाम करार देते हुए उनके साथ मनमाना बर्ताव करने का फरमान जारी किया था। गौरतलब है कि आतंकियों ने पिछले साल चिबकू गांव से 300 स्कूली छात्राओं को अगवा कर लिया था।

इनमें करीब 200 छात्राओं के बारे में अब तक कोई जानकारी नहीं मिल सकी है। आतंकी सरगना ने इन मासूम बच्चियों को आतंकियों को सौंपने और उनकी शादी कराए जाने का दावा किया था।

Boko Haram | 300 schoolgirls from the village of Chibok | Crime news 

Tags

buttons=(Accept !) days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top