जॉब के लिए दिल्ली बुलाया, जिस्म के धंधे में उतार दिया

शकरपुर। पति-पत्नी ने असम की 2 लड़कियों को दिल्ली में अच्छी जॉब दिलाने का झांसा दिया। लड़कियां और उनके परिवार वाले झांसे में आ गए। दोनों लड़कियों को दिल्ली लाकर शकरपुर इलाके में एक कमरे में बंद कर दिया गया। दंपती ने इन्हें देह व्यापार में धकेल दिया।

ईस्ट डिस्ट्रिक्ट पुलिस ने एक सूचना के आधार पर शकरपुर इलाके में बंधक बनाकर रखी गई दोनों लड़कियों को मुक्त करा लिया। पुलिस टीम ने इन दोनों लड़कियों से मिली जानकारी के आधार पर ललिता पार्क में बंधक बनाकर रखी गई दो और लड़कियों को मुक्त कराया। इनमें से एक लड़की दिल्ली के मुंडका की जबकि दूसरी गाजियाबाद की रहने वाली है।

पुलिस ने मानव तस्करी के आरोप में संदीप कुमार उर्फ विक्रांत और उसकी पत्नी आयशा बेगम के अलावा चंदन कुमार और सुनील मिश्रा को अरेस्ट कर लिया। पुलिस ने इनके खिलाफ विभिन्न धाराओं में मामला दर्ज कर लिया है।

अडिशनल डीसीपी सुरेंद्र कुमार ने बताया कि 25 जून की देर रात मधु विहार पुलिस को एक कॉल मिली थी। कॉलर ने असम की दो लड़कियों को बंधक बनाने की जानकारी पुलिस को दी। नाइट जीओ ने कॉलर को तलाश करने का प्रयास किया, लेकिन पुलिस को उसकी लोकेशन का पता नहीं चल पाया। इसके बाद पुलिस ने उस मोबाइल नंबर का पता लगाया जिससे कॉल की गई थी, तो वह असम का नंबर निकला। यह नंबर फर्जी पते पर लिया गया था। मामले की गंभीरता को देखते हुए स्पेशल टास्क फोर्स के इंचार्ज इंस्पेक्टर के. जी. त्यागी, एसआई मुकेश, प्रदीप और एएसआई ओमिंदर सहित अन्य पुलिस वालों की एक टीम बनाई गई। 28 जून को पुलिस टीम ने एक सूचना के आधार पर लक्ष्मी नगर में जेएंडके ब्लॉक की पहली मंजिल पर दबिश देकर वहां से असम की दो लड़कियों को मुक्त कराया। पुलिस ने वहां से संदीप कुमार, उसकी पत्नी आयशा और चंदन कुमार को अरेस्ट किया।

पुलिस टीम ने इन दोनों लड़कियों से मिली जानकारी के आधार पर ललिता पार्क स्थित एक मकान की दूसरी मंजिल पर छापा मारकर वहां से दो और लड़कियों को मुक्त कराया। इन दोनों लड़कियों को भी अच्छी जॉब दिलाने का झांसा देकर यहां बंधक बनाकर रखा गया था। इसके बाद उन्हें भी जबरन देह व्यापार में धकेल दिया गया। पूछताछ में खुलासा हुआ कि असम की लड़कियों के नाम से फर्जी अकाउंट भी खोला गया था। चंदन कुमार इनके लिए ग्राहक लेकर आता था। दोनों लड़कियों ने जब इसका विरोध किया तो उनके साथ न केवल मारपीट की गई, बल्कि उन्हें जान से मारने की धमकी भी दी गई।

Tags

buttons=(Accept !) days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top