घर से रूठी नाबालिग का 40 दिन तक गैंगरेप

लखनऊ| घर वालों से नाराज होकर करीब एक माह पहले ट्रेन से लखनऊ आई कानपुर निवासी एक किशोरी ने कल्ली पश्चिम के चार युवकों पर उसे अगवा कर गैंगरेप करने का आरोप लगाया है। पीड़िता ने एसएसपी को आपबीती बताई तो उनके निर्देश पर पीजीआई थाने में चारों आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया।

कानपुर निवासी पीड़िता ने एसएसपी को बताया कि वह 13 मई को घर वालों से नाराज होकर ट्रेन से चारबाग रेलवे स्टेशन आई थी। वह स्टेशन से बाहर निकली तो उसे कल्ली पश्चिम निवासी अनिल यादव मिला। उसने किशोरी से पूछा कि कहां जाना है। उसके बाद उसने फोन कर अपने तीन साथियों को बुला लिया। इन लोग ने उसे डरा धमकाकर कार में बैठा लिया। वहां से उसे एक मकान में ले गए।

बाद में किशोरी को पता चला की वह मकान जगत खेड़ा कल्ली पश्चिम में है। वहां आरोपियों ने उसे करीब 25 दिनों तक बंधक बनाकर रखा और गैंग रेप किया। उसके बाद आरोपी उसे वहां से फत्ते खेड़ा ले गए और वहां भी करीब 15 दिनों तक बंधक बनाकर रेप किया। किशोरी के मुताबिक वहां से वह 22 जून को किसी तरह छत से कूदकर भाग निकली और पड़ोसी के मोबाइल फोन से पुलिस को सूचना दी थी|

पुलिस ने दिखाया सामाजिक बदनामी का डर
पीड़िता ने आरोप लगाया है कि 22 जून को सूचना पाकर मोहनलालगंज थाने की पुलिस मौके पर पहुंची थी। पुलिसकर्मी आरोपियों के घरवालों को थाने भी ले आए थे, लेकिन कोई कार्रवाई किए बिना ही उन्हें छोड़ दिया गया था। पुलिस ने किशोरी के पिता को फोन कर बुलवाया और सामाजिक बदनामी का डर दिखाकर चलता कर दिया।

SSP को दिया नाबालिग होने का प्रमाण
किशोरी ने एसएसपी से कहा कि वह आरोपियों को सजा दिलाना चाहती है, इसीलिए प्रार्थना पत्र दिया है। पीड़िता ने खुद को नाबालिग बताते हुए स्कूल सर्टिफिकेट भी दिखाया।

जीरो पर हुई FIR 
एसएसपी के निर्देश पर पीजीआई थाने में अनिल यादव उर्फ पोलू, उसके भाई अजीत यादव, अनिल के साले दिनेश यादव उर्फ छोटू और पिन्टू यादव के खिलाफ जीरो पर केस दर्ज किया गया है। एसओ पीजीआई जेबी पांडे का कहना है कि मामला कानपुर से जुड़ा है, इसीलिए एफआईआर जीरो पर दर्ज हुआ है।

Gang rape | Crime | lucknow | FIR 

Tags

buttons=(Accept !) days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top