बारिश मे सेहत बचाने, क्या खाएं क्या ना खाएं

बारिश के मौसम में पेट की प्राॅब्लम्स बहुत कॉमन होती हैं। यही कारण है कि इस मौसम में बैक्टीरिया शरीर पर ज्यादा तेजी से आक्रमण करते हैं। दरअसल आयुर्वेद में माना गया है कि लगभग 80 प्रतिशत बीमारियां डाइजेस्टिव सिस्टम की गड़बड़ी के कारण ही होती है। 

ऐसे में डाइजेस्टिव सिस्टम को दुरुस्त रखने के लिए सेहतमंद खाना और हेल्दी गुणों से भरपूर मौसमी फलों को अपनाकर हम कई तरह के रोगों से अपना बचाव कर सकते हैं और इस मौसम का भरपूर आनंद ले सकते हैं। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ मौसमी फलों के बारे में...

1.आड़ू
माना जाता है कि यह फल खाने से इम्युनिटी पॉवर बढ़ता है। इस फल का रस कई तरह के बैक्टीरिया के आंतरिक संक्रमण से बचाव करता है। आडू का सेवन करनेे से कब्जियत और अपच की समस्या भी दूर होती है।

2.केला
पके हुए ताजा केले को खाने से शरीर को एनर्जी मिलती है। माना जाता है कि केले पर काला नमक लगाकर खाने से पेट की तकलीफों में आराम मिलता है।

3.जामुन
जामुन में लौह और फॉस्फोरस जैसे तत्व भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। इसमें कोलीन और फोलिक एसिड भी होता है। पातालकोट के आदिवासी मानते है कि जामुन खाने से पेट की सफाई हो जाती है और यह मुंह के स्वाद को भी दुरुस्त कर देता है। जामुन के ताजे फलों की करीब 100 ग्राम मात्रा को 300 मिली पानी के साथ रगड़ लें। जिससे इसके छिलके और रस निकल आए। अब बीजों को अलग कर दीजिए। इस रस को छानकर कुल्ला करें और निगल जाएं, इससे मुंह के छाले पूरी तरह से खत्म हो जाएंगे और पेट की सफाई भी हो जाएगी। बारिश के मौसम में जामुन खाने से इम्युनिटी पॉवर बढ़ता है। साथ ही, त्वचा लंबी उम्र तक जवान रहती है।

4.गुंदा
गुंदे के पके फलों की 100 ग्राम मात्रा को लगभग इतने ही पानी के साथ उबालें। जब पानी एक चौथाई मात्रा में बचे तो इससे कुल्ला करें या फिर पी लें। मसूड़ों की सूजन, दांतो के दर्द और मुंह के छालों में यह रामबाण दवा का काम करता है। गुंदे का आचार या सब्जी बनाकर खाना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

5. फालसा
खून की कमी होने पर फालसा के पके फल खाना चाहिए। इससे खून बढ़ता है। यदि शरीर में या त्वचा पर जलन हो तो फालसे के फल या शर्बत को सुबह-शाम लेने से बहुत जल्दी आराम मिलता है। यदि चेहरे पर फुंसियां निकल आई हों और उनमें से मवाद निकलता हो तो उस पर फालसा के फलों और पत्तियों के रस को लगाने से मवाद सूख जाता है और फुंसिया ठीक हो जाती हैं।

6.आलू बुखारा
आलू बुखारे के सेवन से शरीर से जहरीले तत्व बाहर निकल जाते हैं, कब्जियत दूर होती है। साथ ही, पेट से जुड़ी अन्य समस्याएं भी खत्म हो जाती हैं। इन फलों में पाए जाने वाले फाइबर्स और एंटी ऑक्सीडेंट्स की वजह से डाइजेस्टिव सिस्टम ठीक से काम करता है।

health tips | mansoon | digestion 

Tags

buttons=(Accept !) days=(20)

Our website uses cookies to enhance your experience. Learn More
Accept !
To Top