Ajan V/S Sonu Nigam : बातों को धार्मिक एंगल न दिया जाए

सोनू निगम को इंडस्ट्री से ही विरोध झेलना पड़ रहा है. सुबह तेज आवाज में लाउडस्पीकर से दी जाने वाली अजान से उन्होंने नींद खराब होने की शिकायत की थी. हालांकि उन्होंने बाद में ट्वीट्स में मंदिर और गुरुद्वारे के बारे में लिखा लेकिन बड़े रूप में यह अजान वर्सेज सोनू निगम बन गया है सोनू निगम के लाउडस्पीकर वाले ट्वीट ने बड़े विवाद का रूप ले लिया है. अब सोनू के सपोर्ट में आए हैं डॉ. मशहूर गुलाटी यानी सुनील ग्रोवर। आधी रात को उन्होंने ट्वीट किया कि सोनू निगम ने बात वैसे नहीं लिखी थी, जो उसका मतलब निकाला गया. उनकी बातों को धार्मिक एंगल न दिया जाए. मसला सिर्फ लाउडस्पीकर के प्रयोग का है.

सोनू निगम के घर 'नम:' से 600 मीटर की दूरी पर है नवोबिया मस्जिद. इसके ट्रस्टी गुलाम दस्तगीर पारकर ने आरोप लगाया कि सोनू पिछले छह महीने से किसी और के नाम से वर्सोवा पुलिस स्टेशन में शिकायत कर रहे हैं. इसको लेकर उन्हें पुलिस का नोटिस भी मिला.

गुलाम दस्तगीर पारकर का आरोप है - इस वक्त सोनू का काम नहीं चल रहा इसलिए वे ये सब कर रहे हैं. उनको अजान के बारे में कुछ भी कहने का कोई हक नहीं है. यहां बीते 40 साल से अजान हो रही है. फिर सोनू का घर यहां से काफी दूर है, जबकि उनसे ज्यादा करीब रहने वाले लोगों को कोई तकलीफ नहीं है. 

गुलाम दस्तगीर की मानें, तो सोनू निगम ये सब पब्लिसि‍टी के लिए कर रहे हैं क्योंकि उनके पास आजकल कोई काम नहीं है. वो एसी में रहते हैं, जहां खिड़की-दरवाजे बंद होते हैं. अगर ज्यादा दिक्कत थी तो खुद सोनू आकर हमसे बात कर सकते थे. गुलाम दस्तगीर का कहना है कि सोनू को ये समझ लेना चाहिए कि अजान की आवाज उनकी आवाज से कहीं ज्यादा सुरीली है.
Share on Google Plus

About Yuva Bhaskar

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.

0 comments:

Post a Comment